सीएम योगी आदित्यनाथ ने रिक्त पदों पर प्राथमिकता के आधार पर भर्ती करने के दिए निर्देश




13 हजार शिक्षकों की भर्ती की जगी आस




प्रयागराज, प्रमुख संवाददाता प्रदेश रिक्त पदों पर एक नजर


राजकीय और माध्यमिक विद्यालयों और महाविद्यालयों में शिक्षकों के 13 हजार से अधिक पद भरे जाएंगे। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने रिक्त पदों पर प्राथमिकता के आधार पर चयन की की 100 दिन में लक्ष्य के अनुरूप भर्ती की रिपोर्ट मांगी है। इससे बेरोजगार युवाओं में उम्मीद जगी है। खासतौर से राजकीय और सहायता प्राप्त माध्यमिक विद्यालयों और महाविद्यालयों में शिक्षक बनने की आस रखने वाले युवाओं को रोजगार मिलने की आस बंधी है।


कॉलेजों में कुछ पदों पर एक दशक से भर्ती नहीं हो सकी है। उदाहरण के तौर पर राजकीय महाविद्यालयों में पुस्तकालयाध्यक्ष के पद पर 11 साल से भर्ती नहीं हुई है। अब पदनाम रहा है। राजकीय और सहायता प्राप्त पुस्तकालयाध्यक्ष और असिस्टेंट


5183 प्रशिक्षित स्नातक व प्रवक्ता के पद एडेड कॉलेजों में


1938 पद प्रधानाचार्य के सहायता प्राप्त माध्यमिक विद्यालयों में


कार्यवाही शुरू करने के निर्देश दिए हैं। सीएम ने मुख्य सचिव से सभी आयोगों 3200 पद राजकीय माध्यमिक विद्यालयों में सहायक अध्यापक के


1500 पद राजकीय इंटर कॉलेजो में प्रवक्ता के


106 पद लेक्चरर लाइब्रेरी के राजकीय महाविद्यालयों में


368 पद असिस्टेंट प्रोफेसर के ●राजकीय महाविद्यालयों में


918 असिस्टेंट प्रोफेसरों के पद सहायता प्राप्त महाविद्यालयों में 132-13 कुल रिक्त पद


इनका अधियाचन भी माध्यमिक शिक्षा तरह से मुख्यमंत्री ने आयोगों को भर्ती


चयनित गुरुवार को लोक सेवा आयोग पर एकत्रित हुए और प्रदर्शन किया इधर, प्रदर्शनरत अभ्यर्थियों से मिलने आए अधिकारियों ने कहा कि नियुक्ति इसी प्रकार सहायता प्राप्त माध्यमिक उम्मीद है कि लंबित भर्तियां जल्द पूरी में रोष है। इसी के बाद प्रदेशभर के


स्टाफ नर्स के चयनितों ने किया लोक सेवा आयोग का घेराव


प्रयागराज प्रदेश में स्टाफ नर्स ग्रेड दो के लिए परीक्षा परिणाम आने के चार माह बाद भी नियुक्ति नहीं देने से नाराज सैकड़ों चयनितों ने गुरुवार को लोक सेवा आयोग का घेराव किया। उन्होंने बताया कि महानिदेशालय लखनऊ और लोक सेवा आयोग की ओर से चयनितों को नाहक दौड़ाया जा रहा है। कई चयनितों ने इस नौकरी के लिए पुराने रोजगार से मुंह मोड़ लिया। अब उनके घर में आर्थिक संकट खड़ा हो गया है।


प्रदर्शनकारियों के अनुसार चिकित्सा स्वास्थ्य सेवाएं, चिकित्सा शिक्षा और किंग जार्ज मेडिकल कालेज लखनऊ के लिए 4700 रिक्त पदों पर स्टाफ नर्स ग्रेड दो के तहत जुलाई 2021 में भर्ती आई तीन अक्टूबर को परीक्षा हुई और 4 जनवरी 2022 को फाइनल रिजल्ट आया। जिसमें कुल 3014 अभ्यर्थी सफल हुए। जनवरी में ही चयनितों का डाक्यूमेंट्स वेरीफिकेशन कर लिया गया। इनमें से 484 को 11 मई को काउंसलिंग के लिए बुलाया गया। लेकिन फिर काउंसलिंग को निरस्त कर दिया गया। इससे चयनितों बदलकर प्रवक्ता पुस्तकालयाध्यक्ष के विद्यालयों में प्रधानाचार्यों की भर्ती 106 पदों पर भर्ती का प्रस्ताव उच्च 2013 के बाद से नहीं हुई है। लगभग शिक्षा निदेशालय की ओर से भेजा जा 40 प्रतिशत स्कूलों में पद खाली हैं। महाविद्यालयों प्रवक्ता सेवा चयन बोर्ड को मिल चुका है। जिस प्रोफेसर के 1392 पद रिक्त हैं। में तेजी लाने के निर्देश दिए है। इससे


लोक सेवा आयोग पर स्टाफ नर्स की नियुक्ति की मांग लेकर एकत्रित प्रतियोगी


सरकारी नौकरी के चक्कर में छोड़ दिया पहले का रोजगार


नियुक्ति की मांग लेकर लोक सेवा आयोग पर प्रदर्शन कर रहे परीक्षा पास अभ्यर्थियों में काजल, गौरव, आरती, शालिनी मौर्य आदि ने बताया कि कई लोग ऐसे हैं जिन्होंने भर्ती आने के बाद अपनी नौकरी छोड़ दी अब परीक्षा पास करने के बाद भी नियुक्ति नहीं मिलने से वह खुद को ढंगा महसूस कर रहे हैं। आर्थिक सकट खड़ा हो गया है। उन्होंने कहा कि एक तरफ जहा अस्पतालों में हजारों पद रिक्त हैं वहीं परीक्षा पास करने के बाद भी नौकरी नहीं दी जा रही मांग की कि कोर्ट के आदेशों के सम्मान में बाकी करीब 1700 रिक्त पदों पर अनुभवियों को नियुक्ति दी जाए। इसमें परीक्षा पास अभार्थियों को कोई ऐतराज नहीं है।


को लेकर कोर्ट ने स्वतः संज्ञान लिया है। इसमें तीन सदस्यीय टीम गठित कर अनुभव के लिए दिए गए नंबर की जांच 45 दिनों में पूरा करने को कहा गया है।

Post a Comment

Previous Post Next Post